slider

Membership Request form

Birth
E.g., 08/19/2017

Vertical Tabs

वियतनाम देश का आदर्श: छत्रपति शिवाजी महाराज

वियतनाम देश का आदर्श: छत्रपति शिवाजी महाराज

दक्षिण पूर्वका वियतनाम जैसा छोटा देश अपनी स्वतंत्रता हेतु वर्षोंसे अण्वस्त्र सिद्ध, विश्वके सबसे बलाढ्य अमेरिकाके साथ लडता रहा तथा केवल छत्रपतिद्वारा प्रक्षेपित प्रेरणाके बलपर जीता भी । छत्रपतिने भी इसी ‘कूटनीति’का उपयोग कर मुगलोंको पराभूत किया था । वियतनामी योद्धाओंने वही पाठ आचरणमें लाया था । वियतनाम युद्धकी जीतके पश्चात वहांके राष्ट्रपतिने स्वयं, ‘छत्रपति शिवाजी महाराजकी युद्धनीतिका पाठ `हमने आचरणमें लाया; अत: हम बलाढ्य अमेरिकाको हरा सके !’ ऐसा वक्तव्य दिया था ।

जैसा कि आप जानते हैं कि किसी भी संगठन को चलाने के लिए सभी के सहयोग की आवश्यकता रहती है, तो आप सभी जो भी इस सी.एस.वी.पी - छत्रपति शिवाजी विद्यार्थी परिषद संघठन से जुड़े हैं, अपनी सामर्थ्य से सहयोग राशि समय-समय पर दें, ताकि सभी कार्य सुचारू रूप से चल सकें Pa

जैसा कि आप जानते हैं कि किसी भी संगठन को चलाने के लिए सभी के सहयोग की आवश्यकता रहती है, तो आप सभी जो भी इस सी.एस.वी.पी - छत्रपति शिवाजी विद्यार्थी परिषद संघठन से जुड़े हैं, अपनी सामर्थ्य से सहयोग राशि समय-समय पर दें, ताकि सभी कार्य सुचारू रूप से चल सकें
Paytm Number - 9991873050
आपकी सहयोग राशि और नाम को संघठन की वेबसाइट www.csvpbharat.org पर निरंतर अपडेट किया जाएगा।

सी.एस.वी.पी सगठन ने स्वदेशी संदेश यात्रा निकालकर किया जागरूक

छत्रपति शिवाजी विद्यार्थी परिषद हरियाणा के सदस्यों ने नीलोखेड़ी पॉलिटेक्निक कॉलेज से स्वदेशी संदेश यात्रा निकाली । यात्रा में बाजार से होते हुए किसान ग्राउंड, गोल मार्किट चौंक, बड़ा अड्डा से होते हुए वापस पॉलटेक्निक कॉलेज पहुंची। यात्रा का नेतृत्व सी.एस.वी.पी प्रदेशाध्यक्ष गौरव मराठा पिचौलिया ने किया। उन्होंने लोगो से अपील की हमे स्वदेशी वस्तुए ही अपनानी चाहिए। इस दौरान सी.एस.वी.पी की नीलोखेड़ी इकाई का गठन हुआ। इसमें दीपू कमालपुर को नीलोखेडी प्रधान की जिम्मेदारी सौंपी। दीपू बडथल उर्फ़ हरप्रीत को नीलोखेड़ी ऑल स्कूल प्रेजिडेंट बनाया गया। पिचौलिया ने कहा की हमे छत्रपति शिवाजी महाराज के दिखाए मार्ग

फ्रांस में नेपोलियन के बारे में बताया जाता है, भारत में शिवाजी महाराज के बारे में नहीं : फ्रेंच लेखक

फ्रांस में नेपोलियन के बारे में बताया जाता है, भारत में शिवाजी महाराज के बारे में नहीं : फ्रेंच लेखक
बता दें की फ्रांशस गौतीर मूल रूप से फ्रांस के लेखक व् पत्रकार है परन्तु कई सालों से भारत में रह रहे है
फ्रांशस गौतीर ने बताया की फ्रांस में हर बच्चे को नेपोलियन के बारे में पढ़ाया जाता है बताया जाता है,
परन्तु भारत में शिवाजी महाराज के बारे में विरले ही बच्चों को पढ़ाया जाता है जबकि शिवाजी महाराज तो नेपोलियन से कहीं अधिक महान थे
https://twitter.com/fgautier26/status/851450684897509376

भारत का वीर योद्धा छत्रपति शिवाजी – Inspirational History of Chhatrapati Shivaji Maharaj By CSVP

Life of Chhatrapati Shivaji Maharaj
भारत की पावन धरती ने कई वीर पुत्रों को जन्म दिया। इनमें से एक थे शिवाजी जिनका जन्म मराठा परिवार में हुआ था। इतिहासकार ऐसा मानते हैं कि भारत के इतिहास में वे आज तक के सबसे बड़े योद्धा हैं। शिवाजी महाराज भारत के स्वतंत्रता लड़ाई के बीज बोने वाले शूरवीर दिग्गजों में से भी एक माने जाते हैं।

CSVP को सम्मानित किया "शौर्य दिवस समारोह" काला आम्ब पानीपत पर

CSVP छत्रपति शिवाजी विद्यार्थी परिषद, के सामाजिक -सेवा के लिए 14 जनवरी 2017 को पानीपत काला आम्ब में "शोर्य-दिवस समारोह" में मराठा जाग्रति मंच द्वारा व् प्रशिद्ध इतिहासकार डॉ वसंत राव मोरे जी विधायक विनायक मिन्टे जी ने छत्रपति शिवाजी का मोमेंटो देकर सम्मानित किया गया। और CSVP ने "अपना मराठा पत्रिका" प्रकाशन किया। समारोह में "अपना मराठा" पत्रिका की 2,000 प्रतियाँ बांटी ।सभी शिवभग्तो को 'अपना मराठा' प्रतियाँ दी गई। जय भवानी जय शिवाजी
क्षत्रपति शिवाजी शिव स्मारक (अरब सागर महाराष्ट्र) के अध्यक्ष विनायक मेंटे (विधायक मुम्बई ) जी पानीपत शौर्य स्मारक काला आम्ब में!

सी.एस.वी.पी संघठन को मानव रत्न से सम्मानित करते स्वामी श्री शरणानन्दजी महाराज जी

आज दिनाक 24 अगस्त 2016 को करनाल मे मानव सेवा संघ द्वारा छत्रपति शिवाजी विद्यार्थी परिषद् संघठन को समाजसेवा के क्षेत्र में सराहनीय योगदान को देखते हुए सी.एस.वी.पी संघठन के प्रदेशाध्यक्ष गौरव पिचौलिया जी एवं करनाल हल्काध्यक्ष विशाल जी को "मनाव सेवा रत्न" देकर सम्मानित किया । इस सम्मान के लिए हम मानव सेवा संघ का हार्दिक अभिनंदन करते है। सी.एस.वी.पी संघठन को "मानव सेवा रत्न" के योग्य समझा एवं हम विश्वास करते है भविष्य मे संघठन इसी तरह बढ़-चढ़ कर शिवभ्ग्तो के सहयोग से जनसेवा क्षेत्र में ज्यादा से ज्यादा सराहनीय कार्य करते रहेगा।

परिषद ने राष्ट्रमाता जिजाबाई की 419वी जयंती धूम-धाम से मनाई

छत्रपति शिवाजी विद्यार्थी परिषद ने राष्ट्र माता जिजाबाई जयंती का आयोजन किया। महाराष्ट्र से आए प्रशिद्ध इतिहासकार डॉ वशंत केशवराव मोरे और advocate प्रशांत पाटिल ने मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत की ।
जिसमे परिषद के अध्यक्ष गौरव मराठ पिचौलिया ने कहा की वीर माता जीजाबाई के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा की माता जीजाबाई का जम्म 12 जनवरी 1598 को सिंदखेड़ नामक गाव में हुआ था।

Pages